सिवान बड़हरिया में पप्पू यादव का हुंकार कहे मोदी सरकार से संविधान को खतरा है

जावेद खान / बड़हरिया , केंद्र की मोदी सरकार से ने केवल मुस्लिम, दलित, आदिवासी और पिछड़ों को खतरा है, बल्कि देश की संविधान भी खतरे में है। नागरिकता संशोधन कानून देश को बांटने वाला है। सरकार को इसे किसी भी सूरत में वापस लेना होगा। ये बातें पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कहीं।


सिवान जिले के बड़हरिया ब्लॉक मैदान में गुरुवार को NRC, CAA के खिलाफ आयोजित हल्ला बोल जनसभा में उन्होंने कहा कि यह लड़ाई मुसलमानों की नहीं, सभी देशवासियों की है।
बड़हरिया ब्लॉक मैदान में गुरुवार को एनआरसी और सीएए के खिलाफ  आयोजित जनसभा में पप्पू यादव ने कहा कि डॉ.भीमराव आबेडकर ने जिस संविधान का निर्माण किया, उसे माननेवाले एनआरसी और सीएए का विरोध कर रहे हैं। भारत सरकार ने हर विवादित निर्णय लेकर देश को बर्बाद करने का काम किया है। अपनी नाकामी छुपाने के लिए नए-नए कानून बनाने की पहल हो रही है।


बिहार के पूर्व सांसद पप्पू यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर बार मुस्लिम को ही निशाना बना रहे हैं। देश में 1.70 करोड़ लोगों के पास जमीन नहीं है। 30 करोड़ लोगों के पास घर नहीं है। 8.62 लाख लोगों के पास घर के कागजात नहीं हैं, तो यहा के निवासी कैसे नागरिकता साबित करेंगे। सरकार पुलवामा में हुई घटना की जाच नहीं कराकर तीन तलाक पर कानून बनाती है। भ्रूण हत्या, दहेज हत्या जैसे अपराध को रोकने के बजाय एनआरसी लागू करने में व्यस्त है। कहा कि नोटबंदी तो कभी जीएसटी, 370 तो कभी जाति-धर्म के नाम पर अशांति फैलाई जा रही है। यह देश लूंगी और गंजी वालों का भी है। लूंगी और गंजी को शक की नजर से देखने वाला अब खुद शक के घेरे में है। इस काले कानून के खिलाफ अभियान जारी है। कहा कि रोज अलग-अलग स्थानों में जनसभा कर सरकार को इस कानून को वापस लेने के बाध्य किया जाएगा।
—- सरकार जान ले, यह कलियुग नहीं कलम युग : दुलाल भुइयां

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.