मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अधिक से अधिक लोगों की सैंपल जांच

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अधिक से अधिक लोगों की सैंपल जांच नियमित रूप से सभी जिलों में जारी रखें। कोरोना से संबंधित सभी जानकारियों को अपडेट रखें और उसके आधार पर रणनीति बनाकर काम करें। आने वाला समय और चुनौतीपूर्ण है, इसको लेकर भी तैयारी पूर्ण रखें।

मुख्यमंत्री ने एक अणे मार्ग स्थित नेक संवाद से वीडिया कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना संक्रमण की ताजा स्थिति एवं उसकी रोकथाम को लेकर किये जा रहे कार्यों के संबंध में समीक्षा बैठक की और कई निर्देश दिए। कहा कि प्रखण्ड के नीचे पंचायत और गांव स्तर तक कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या का पता लगाएं और उसको लेकर जरूरी कदम उठाएं।बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में आपदा राहत केंद्रों तथा सामुदायिक किचेन में लोगों की जांच से बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने में सफलता मिली है। ऐसे लोगों के आंकड़े भी एकत्र करें, जिनकी मृत्यु अन्य बीमारियों के साथ-साथ कोरोना संक्रमण से हुई है। ताकि उसके आधार पर भी कोरोना संक्रमण के ट्रेंड का पता किया जा सके।

संक्रमण का ट्रेंड नीचे जाने का ये मतलब नहीं है कि कोरोना खत्म हो गया है। लोगों को इस संक्रमण की गंभीरता के प्रति लागातर सचेत रहना होगा। पोस्ट कोविड मैनेजमेंट के लिए चिन्हित अस्पतालों में समुचित व्यवस्था रखी जाय। आने वाले चुनाव एवं पर्व-त्योहारों के समय में गतिविधियां बढ़ने से लोगों की भीड़ बढ़ेगी। इसलिए विशेष सतर्कता बरतनी होगी। बैठक में मुख्य सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह उपस्थित थे।

छह प्रखंडों में 200 से ज्यादा मरीज
समीक्षा के दौरान प्रधान स्वास्थ्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि बिहार के छह प्रखंडों में 200 से ज्यादा कोरोना के एक्टिव मरीज हैं। 20 प्रखंडों में 100 से ज्यादा तथा 67 प्रखंडों में 50 से ज्यादा एक्टिव मरीज हैं। सभी अस्पतालों में सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। बिहटा में 500 बेड का कोविड अस्पताल तथा मुजफ्फरपुर के पताही में भी कोविड हॉस्पीटल कार्यरत हो गया है। केंद्र सरकार से कोवास 8800 मशीन, दस आरटीपीसीआर मशीन उपलब्ध होने तथा राज्य सरकार द्वारा भी दस आरटीपीसीआर मशीन खरीदने से हमलोगों की आरटीपीसीआर जांच की क्षमता और अधिक बढ़ जायेगी।

गांवों के हर परिवार को फिर चार-चार मास्क
मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि सभी गांवों में हर परिवार को चार-चार मास्क और एक साबुन का वितरण फिर से कराएं। मास्क का प्रयोग लोग ठीक से करें। पूरी तरह से नाक और मुंह ढ़का रहे, ताकि खतरे की संभावना कम से कम हो। इसके लिए और प्रचार-प्रसार करायें। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, सभी प्रमंडलीय आयुक्त, सभी जोन के पुलिस महानिरीक्षक/पुलिस उपमहानिरीक्षक, सभी जिलाधिकारी और वरीय पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक जुड़े हुए थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.